my liking

गलत मत कदम उठाओ
सोच कर चलॊ विचार कर चलो
राह की मुसीबतों को
पार कर चलो पार कर चलो

हमपे जिम्मेदारियां है देश की बडी
हम न बदले अपनी चाल हर घडी घडी
आग ले चलो चिराग ले चलो
ये मस्तियों कि रंग भरे भाग ले चलो

मंजिल के मुसाफिर तुझे क्या
राह कि क्या फिकर
चट्टान पर तूफान के तेजों का क्या असर
ये कौन आ रहा अंधेर छा रहा
ये कौन मंजिलों पे मंजिले उठा रहा

मिल के चलो एक साथ अब नहीं रुको
बढ के चलो एक साथ अब नहीं झुको
साज करेगा आवाज करेगा
हमारी वीरता पे यहां राज करेगा


***************************************


चल अकेला चल अकेला चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राहे चल अकेला

हजार मील लंबे रास्ते, तुझ को बुलाते
यहां दुखडे सहने के वासते तुझ को बुलाते
है कौन सा वो इनसान यहां पर जिसने दुःख न झेला
चल अकेला चल अकेला चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राहे चल अकेला
चल अकेला चल अकेला चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राहे चल अकेला

तेरा कोई साथ न दे तो, तू खुद से प्रीत जोड ले
बिछौना धरती को कर के, अरे आकाश ऒढ ले
यहां पूरा खेल अभी जीवन का तूने कहां हैं खेला
चल अकेला चल अकेला चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राहे चल अकेला
चल अकेला चल अकेला चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राहे चल अकेला

*************************************


ऎ मेरे प्यारे वतन, ऎ मेरे बिछडे चमन
तुझ पे दिल कुर्बान
तू ही मेरी आरजू, तू ही मॆरी आबरू
तू ही मेरी जान

तेरे दामन से जो आये उन हवावों को सलाम
छूम लूं मैं उस जुबान को जिसपे आये तेरा नाम
सबसे प्यारी सुबह तेरी
सबसे रंगीन तेरी शाम
तुझ पे दिल कुर्बान

मां का दिल बनके कभी सीने से लग जाता है तू
और कभी नन्ही सी बेटी बन के याद आता है तू
जितना याद आता है मुझको
उतना तडपाता है तू
तुझ पे दिल कुर्बान

छॊड कर तेरी जमीन को दूर आ पहुंचे हैं हम
फिर भी है ये ही तमन्ना तेरे जर्रॊं की कसम
हम जहां पैदा हुए निकले दम
तुझ पे दिल कुर्बान